व्यवस्थापक

वापस अधिकारियों / कर्मचारियों के कार्य एवं दायित्व पर जाएँ
व्यवस्थापक के कर्तव्य एवं दायित्व :-
  1. उत्तर प्रदेश सचिवालय के व्यवस्थापक को रू0 2000/- की प्रतिभू जमा करना आवश्यक है।
  2. व्यवस्थापक संबंधित भवन के व्यवस्थाधिकारी के पूर्ण नियंत्रण में कार्य करेगें।
  3. विधान भवन के कार्यालयों तथा सचिवालय भवनों और उसके कार्यालयों को खुलवाने तथा बन्द करवाना तथा कार्यालयों एवं भवनों के खुलवाने तथा बन्द होने के समय को प्रत्येक दिन रजिस्टर में लिखना। प्रातः 8.00 बजे स्वयं कार्यालय में उपस्थित होना।
  4. व्यवस्थापक संबंधित भवन के रख-रखाव तथा सफाई के लिये उत्तरदायी होगें।
  5. व्यवस्थापक प्रातः 8.00 बजे स्वयं कार्यालय में उपस्थित होगें और अपने अधीनस्थ सफाई कर्मचारियों/ फर्राश/ बेलदारों/ पानीवालों/ भिश्ती आदि की उपस्थिति सुनिश्चित करेगें।
  6. व्यवस्थापक प्रातः यह चेक करेगें कि भवन में जल/ विद्युत की आपूर्ति हो रही है अथवा नहीं। लिफ्ट कूलर इत्यादि चल रहे हैं अथवा नहीं। यदि नहीं तो वे व्यवस्थाधिकारी के संज्ञान में लाकर सिविल/ विद्युत अधिकारियों से सम्पर्क स्थापित करके तुरन्त व्यवस्था करायेगें।
  7. भवनों के कक्षों/ गैलरियों/ रास्तों/ कार्यालय कक्षों के फर्नीचरों/ रिकार्ड रैक्स/ बाथरूमों की सफाई 9.30 बजे प्रातः तक अवश्य सुनिश्चित करायेगें।
  8. प्रतिदिन भवन का कम से कम दो बार प्रातः 9.00 बजे तथा 2.00 बजे अपरान्ह् में निरीक्षण करेगें और यह सुनिश्चित करेगें कि सफाई कर्मचारी शौचालयों/भवनों की सफाई समुचित रूप से कर रहे हैं अथवा नहीं।
  9. ग्रीष्म/शीत ऋतुओं के लिये व्यवस्था करना तथा पीने का पानी आदि की समुचित व्यवस्था सुनिश्चित करना।
  10. भवन में स्थित बैठक कक्षों में आयोजित बैठकों में सभी आवश्यक, व्यवस्थायें सुनिश्चित कराना।
  11. मा0 मंत्रियों/ अधिकारियों/ अनुभागों के प्रयोगार्थ भण्डार द्वारा जारी फर्नीचर/ दरी/ कालीन/ पर्दा इत्यादि का व्यवस्थाधिकारी के माध्यम से वितरण कराना तथा वांछित प्राप्त वस्तुओं को व्यवस्थाधिकारी के माध्यम से भंडार में जमा कराना एवं वितरण जमा की जाने वाली वस्तुओं को वितरण/जमा रजिस्टर में दर्ज करना व कक्ष में लगी लिस्ट में संशोधन करना।
  12. सरप्लस फर्नीचर को स्टोर में जमा कराना तथा उसका अद्यावधिक रजिस्टर रखना।
  13. कुर्सियों की बुनाई संबंधी रजिस्टर बनाना तथा बनी हुई कुर्सियों को कक्षों में पहुचाना तथा देख-रेख करना।
  14. फर्नीचर/ अलमारी की मरम्मत संबंधी कार्य की देख-रेख करना।
  15. तौलियों/ चादरों/ पर्दा आदि की समय से धुलाई कराना तथा इसका अद्ययावधिक रिकार्ड रखना।
  16. इमरजेन्सी लाईट/दीवाल घड़ियों का ठीक रख-रखाव सुनिश्चित करना।
  17. भवन की रद्दी इकट्ठा करवा कर समय से रद्दी गोदाम में पहुंचाना।
  18. कक्षों में लगे फर्नीचर का कक्षों के रजिस्टर से मिलाने का कार्य मास में एक बार अवश्य कराना।
  19. दैनिक डायरी में प्रतिदिन किये गये सभी कार्यो को संक्षिप्त में अंकित करना।
  20. अन्य सभी कार्य जिन्हें सचिवालय प्रशासन विभाग के उच्चाधिकारी निर्देशित करेगें।

सभी स्तर के व्यवस्थाधिकारी, सचिवालय प्रशासन अनुभ्ससग-7(विविध) के प्रभारी अधिकारी के सीधे नियंत्रण में कार्य करेगें तथा अपने अधीनस्थ व्यवस्था अधिकारियों एवं व्यवस्थापकों के कार्य की देख-रेख करेगें।

भंडार बहियों के रख-रखाव तथा सचिवालय में शासकीय सम्पत्ति की अभिरक्षा में संबंधित नियम इस नियम संग्रह के भाग 2 के परिशिष्ट 13 में दिये हुये हैं।

व्यवस्थाधिकारी तथा व्यवस्थापक इस बात को सुनिश्चित करेगें कि जिन पंजियों में कक्ष बार सामग्री का वितरण दिया हुआ है उन्हें अद्ययावधिक रखा जाय तथा वे उन पंजियों की वर्ष में दो बार वास्तविक जांच करेगें।