सेवानिवृत्तिक लाभों के आगणन / अनुमन्यता के सम्बन्ध में जानकारी

वापस पेंशन अनुभाग पर जाएँ

पेन्शन :-पेन्शन का प्रकरण निम्नलिखित में से किसी एक प्रकार की सेवानिवृत्ति से सम्बन्धित हो सकता है :-

अधिवर्षता पेन्शन

दिनांक 27 जून, 2002 की अधिसूचना के अनुसार राज्य सरकार के समस्त अधिकारियों/कर्मचारियों की अधिवर्षता सेवानिवृत्त 60 वर्ष की आयु पर होगी।

नैवृत्तिक

(अ)   स्वैच्छिक सेवानिवृत्ति :-  20 वर्ष की अर्हकारी सेवा या 45 वर्ष की आयु के बाद कर्मचारियों द्वारा ली गई स्वैच्छिक सेवानिवृत्ति।
(ब)   अनिवार्य सेवानिवृत्ति :-  50 वर्ष की आयु के बाद नियुक्ति प्राधिकारी द्वारा नोटिस देकर की गई सेवानिवृत्ति।

अशक्तता

अशक्तता पेन्शन सरकारी सेवा के लिये अशक्त होने पर सक्षम चिकित्साधिकारी के चिकित्सा प्रमाण-पत्र के आधार पर की गई सेवानिवृत्ति। अशक्तता पेन्शन चिकित्सा प्रमाण-पत्र जारी होने की तिथि से प्रभावी होती है। इस पेन्शन की न्यूनतम धनराशि उस राशि से कम नहीं होगी जो अशक्तता पेन्शन के प्रभावी होने की तिथि को शासकीय सेवक की मृत्यु की दशा में उसके परिवार को पारिवारिक पेन्शन के रूप में अनुमन्य होगी। इस पेन्शन की अनुमन्यता की एक शर्त यह भी है कि इस अशक्तता में शासकीय सेवक का कोई योगदान नहीं होना चाहिये।